Saturday, 20 May 2017

Wake it up

bhee, sooraj jara is aadamee ko jagao! bhee, pavan jara is aadamee ko hilao! yah aadamee jo soya pada hain, jo sach se bekhabar sapanon mein khoya pada hain, bhee panchhee, isake kaano par chillao! bhee sooraj ! jara is aadamee ko jagao! vakt par jagao, nahin to jab bevakt jagega yah to jo aage nikal gae hain, unhen paane- ghabara ke bhaagega yah| ghabara ke bhaagana alag hai, kshipr gati alag hai, kshipr to vah hai jo sahi kshan mein sajag hai| sooraj, ise jagao, pavan,ise jagao, panchhee, isake kaanon par chillao! -bhavaanee prasaad mishr
भई, सूरज
जरा इस आदमी को जगाओ!
भई, पवन
जरा इस आदमी को हिलाओ!
यह आदमी जो सोया पड़ा हैं,
जो सच से बेखबर
सपनों में खोया पड़ा हैं,
भई पंछी,
इसके कानो पर चिल्लाओ!
भई सूरज ! जरा इस आदमी को जगाओ!
वक्त पर जगाओ,
नहीं तो जब बेवक्त जगेगा यह
तो जो आगे निकल गए हैं,
उन्हें पाने-
घबरा के भागेगा यह|
घबरा के भागना अलग है,
क्षिप्र गति अलग है,
क्षिप्र तो वह है
जो सहि क्षण में सजग है|
सूरज, इसे जगाओ,
पवन,इसे जगाओ,
पंछी, इसके कानों पर चिल्लाओ!
-भवानी प्रसाद मिश्र