Thursday, 18 May 2017

In favor of old things poem

ktinee hee badal jaaye yah duniya kaam aatee rahatee hain logon ke kuchh puraanee cheejen har vakt naanee kee kahaaniyaan aur daadee ke ghareloo ilaaj ke nuskhe kaam aate rahate hain jaise sadiyo puraane pahaad aur praacheen aur smrtiryon unake kinaare basee sabhyataon kee kamyootar aur setelait ke is yug mein bhee duniya kee hajaaro sadako par daudatee rahatee hain hamaaree puraanee saikile sach ek praacheen cheej hai aur haalaanki jhooth bhee aur vakt par donon hee kaam aate‘ hain aadamee ke saare bahas mubaahison ke baavajood itana to tay hai banisbat hisa ke ek saada saral jeevan jyaada kaam aata hai logon ke hatyaaron ka shor isalie jyaada ki ve jyaada sangathit hain doob kram shor machaatee hai vrkshon   vinamrata koee kaayarata nahin naee-naeen moonrkhataaan ke baavajood bachee rahatee hain puraanee samajhadaariryon smrtiyon mein bachee rahatee hain thodee - see tees aur thodee-see  mithaas!
क्तिनी ही बदल जाये यह दुनिया
काम आती रहती हैँ लोगों के कुछ पुरानी चीजें हर वक्त
नानी की कहानियां और दादी के घरेलू इलाज के नुस्खे
काम आते रहते हैं जैसे सदियो' पुराने पहाड़ और प्राचीन
और स्मृतिर्यों उनके किनारे बसी सभ्यताओं की

कम्यूटर और सेटेलाइट के इस युग में भी
दुनिया की हजारो सड़को पर दौड़ती रहती हैँ
हमारी पुरानी साइकिले
सच एक प्राचीन चीज है और हालाँकि झूठ भी
और वक्त पर दोनों ही काम आतेहैं आदमी के
सारे बहस मुबाहिसों के बावजूद इतना तो तय है
बनिस्बत हिसा के एक सादा सरल जीवन
ज्यादा काम आता है लोगों के

हत्यारों का शोर इसलिए ज्यादा कि वे ज्यादा संगठित हैं
दूब क्रम शोर मचाती है वृक्षों 
विनम्रता कोई कायरता नहीं
नई-नईं मूंर्खताआँ के बावजूद बची रहती हैं
पुरानी समझदारिर्यों
स्मृतियों में बची रहती हैं
थोडी - सी टीस और थोड़ी-सी  मिठास!
- राजेश जोशी