Friday, 19 May 2017

A breath also occurs

prem chaahiye to samarpan kharch karana hoga,  vishvaas chaahiye to nishtha kharch karanee hogee,  saath chaahiye to samay kharch karana hoga,  kisane kaha rishte mupht milate hain ,  mupht to  hava bhee nahin milatee  ek saans bhee tab aatee hai  jab ek  saans chhodee jaatee he.

प्रेम चाहिये तो समर्पण खर्च करना होगा,
विश्वास चाहिये तो निष्ठा खर्च करनी होगी,
साथ चाहिये तो समय खर्च करना होगा,
किसने कहा रिश्ते मुफ्त मिलते हैं ,
मुफ्त तो  हवा भी नहीं मिलती
एक साँस भी तब आती है
 जब एक  साँस छोड़ी जाती हे।