Sunday, 30 April 2017

Worship poem

 Dehmandir Chitamandir is the only prayer.                     The truth is the evergreen of prayer.                     Suffering hurts, this is the motive.                     Wake up to test pain                     The sadhana of compassion for the protection of the weak.Life in the newness, the feeling in the intimate.
                         देहमंदिर  चितमंदिर  एक ही है प्रार्थना।
                         सत्य  सुंदर मांगल्य की नित्य हो आराधना।।
                         दुखियारों का दुख जाए, है यही मनकामना।
                         वेदना को परख पाने जगाएँ सवेदना||
                         दुर्बलों के रक्षणार्थ पौरुष की साधना।।
                         जीवन में नवतेज हो, अंतरंग  में भावना।
                         सुंदरता  की आस हो मानवता की  हो उपासना।।
                         शौर्य पावें, धैर्य पावें, यही है अभ्यर्थना।।
                         भेद सभी अस्त  होवें, वैर और वासना||
                         मानवों की एकता की पूर्ण हो कल्पना|
                         मुक्त हम, चाहें एक ही बंधुता की कामना।।